भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद

(पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय, भारत सरकार )
Select Theme:
गेस्ट हाउस बुकिंग पोर्टल   ||  इंटरएक्टिव पोर्टल: हितधारकों के साथ इंटरफेस   

Home» संस्थान »व. जै. सं., हैदराबाद

वन जैवविविधता संस्थान, हैदराबाद

FRC Hyderabad

भा.वा.अ.शि.प. के वन अनुसंधान केंद्र (एफ.आर.सी.), हैदराबाद ने जुलाई 1997 से काष्ठ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, बंगलौर के प्रशासनिक नियंत्रण में कार्य करना प्रारंभ किया। केंद्र प्रारंभ से ही ”जैव प्रौद्योगिकी तथा मैनग्रोव वनों का उन्नत केंद्र” के रूप में जाना जाता था। वन जैवविधिता संस्थान (आई.एफ.बी.) के शासकीय वेबपेज में आपका स्वागत करते हुए मुझे अत्यंत प्रसन्नता है। संस्थान की स्थापना पूर्वी घाटों की जैवविविधिता पर विशेष बल के साथ आन्ध्र प्रदेश तथा महाराष्ट्र की जैविविधता पर अनुसन्धान तथा विकास परियोजनाओं के लिए की गई है।

निदेशक, वन अनुसंधान संस्थान का संदेश

frc
डॉ. जी. आर. एस. रेड्डी

निदेशक, आईएफबी, हैदराबाद

वन जैवविधिता संस्थान (आई.एफ.बी.) के शासकीय वेबपेज में आपका स्वागत करते हुए मुझे अत्यंत प्रसन्नता है। संस्थान की स्थापना पूर्वी घाटों की जैवविविधिता
पर विशेष बल के साथ आन्ध्र प्रदेश तथा महाराष्ट्र की जैविविधता पर अनुसन्धान तथा विकास परियोजनाओं के लिए की गई है।

मुझे आशा है कि वेबपेज पर दी गई सूचना दर्शकों के लिए अत्यंत उपयोगी होगी। वेबसाइट के सुधार के लिए आपके सुझावों का स्वागत है।


भा.वा.अ.शि.प. के वन अनुसंधान केंद्र (एफ.आर.सी.), हैदराबाद ने जुलाई 1997 से काष्ठ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान, बंगलौर के प्रशासनिक नियंत्रण में कार्य करना प्रारंभ किया। केंद्र प्रारंभ से ही ”जैव प्रौद्योगिकी तथा मैनग्रोव वनों का उन्नत केंद्र” के रूप में जाना जाता था। वन जैवविधिता संस्थान (आई.एफ.बी.) के शासकीय वेबपेज में आपका स्वागत करते हुए मुझे अत्यंत प्रसन्नता है। संस्थान की स्थापना पूर्वी घाटों की जैवविविधिता पर विशेष बल के साथ आन्ध्र प्रदेश तथा महाराष्ट्र की जैविविधता पर अनुसन्धान तथा विकास परियोजनाओं के लिए की गई है।

केंद्र भारत के हैदराबाद, आंध्र प्रदेश के बाह्य क्षेत्र में 100 एकड़ में फैले हुए परिसर में स्थापित है। केंद्र डूल्लापल्ली में सिकंदराबाद रेलवे स्टेशन से 22 कि.मी., कोमपल्ली (एन एच 7) तथा बहादुरपल्ली ग्राम (हैदराबाद-नर्सापुर रोड) के बीच की लिंक रोड पर स्थित है।

 

अधिदेश

 

सामाजिक रूप से प्रासंगिक बहुउद्देशीय वानिकी प्रजातियों के सुधार के लिए वृक्ष सुधार अध्ययन ।

  1. बीज उत्पादन क्षेत्रों की पहचान तथा बीज बागानों की स्थापना

  2. जैवप्रौद्योगिकी तथा वृहद् संवर्धन तथा पादप भण्डार का सुधार

  3. मॉडल पौधशाला, कृंतक तथा अंकुर बीज बागान, जनन द्रव्य बैंक की स्थापना, वन उत्पादकता को बढ़ाने के लिए चयनित एम.पी.टी. प्रजातियों का उद्गम परीक्षण
  • अनुसंधान तथा कृषि वानिकी नमूनों का प्रदर्शन न.
  • पूर्वी घाटों की जैवविविधता

  • अकाष्ठ वन उत्पादों पर अध्ययन

  • पर्यावरणीय प्रभाव आकलन

  • मुख्यतः वन आग, रोग तथा नाशी कीटों से प्राकृतिक वनों की सुरक्षास

  • जैवविविधता एवं जलवायु परिवर्तन

  • मृदा विज्ञानों से संबंधित अध्ययन

 

हाथ में ली गई परियोजानएं

पूरी की गई परियोजनाएं

2006-2007 2007-2008 2008-2009

जारी परियोजनाएं

-- -- 2008-2009

नई प्रारंभ परियोजना

-- -- 2008-2009
बाह्य सहायता प्राप्त

नई प्रारंभ परियोजना

2006-2007 2007-2008 2008-2009

जारी परियोजनाएं

-- -- 2008-2009

नई प्रारंभ परियोजना

-- -- 2008-2009

 

नाम

पद दूरभाष-कार्यालय

दूरभाष-निवास

ई-मेल

डॉ. जी. आर. एस. रेड्डी

निदेशक, आईएफबी, हैदराबाद

+91-040-66309501 

+91-040--

 director_ifb@icfre.org grsreddy@icfre.org

अधिक जानकारी के लिए : http://frc.icfre.gov.in

 

अस्वीकरण ( डिस्क्लेमर): दिखाई गई सूचना को यथासंभव सही रखने के सभी प्रयास किए गए हैं। वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना के अशुद्ध होने के कारण किसी भी व्यक्ति के किसी भी नुकसान के लिए भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद उत्तरदायी नहीं होगा। किसी भी विसंगति के पाए जाने पर head_it@icfre.org के संज्ञान में लाएं।