भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद

(पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत एक स्वायत्त निकाय, भारत सरकार )
Select Theme:
गेस्ट हाउस बुकिंग पोर्टल   ||  इंटरएक्टिव पोर्टल: हितधारकों के साथ इंटरफेस   

Home» संस्थान »वा. अ. मा. सं. वि. कें., छिंदवाड़ा

वानिकी अनुसंधान तथा मानव संसाधन विकास केंद्र, छिंदवाड़ा

CFRHRD Chindwara

वानिकी अनुसंधान तथा मानव संसाधन विकास केंद्र, छिंदवाड़ा 30 मार्च 1995 को असितत्व में आया। यह 3 जनवरी 1996 को उष्णकटिबंधीय वन अनुसंधान संस्थान, जबलपुर के सैटेलाइट केंद्र के रूप में घोषित हुआ।

संस्थान को अधिदेश विशेष क्षेत्रों जैसे जैवविविधता संरक्षण, अकाष्ठ वन उत्पाद, वन रक्षण, सामाजिक आर्थिक, वन संवर्धन तथा वृक्ष सुधार में वानिकी अनुसंधान करना है। इसके अतिरिक्त केंद्र ने स्व-रोजगार के द्वारा गरीबी उन्मूलन के लिए व्यवसायिक प्रशिक्षण के द्वारा वानिकी सेक्टर में मानव संसाधनों का विकास करने का कार्य भी हाथ में लिया है।


निदेशक का संदेश


डॉ.पी. सुब्रमण्यम

निदेशक

वानिकी अनुसंधान तथा मानव संसाधन विकास केंद्र, छिंदवाड़ा के शासकीय वेबपेज में आपका स्वागत करते हुए मुझे अत्यंत प्रसन्नता है। संस्थान का अधिदेश विशेष क्षेत्रों जैसे जैवविविधता संरक्षण, अकाष्ठ वन उत्पाद, वन रक्षण, सामाजिक आर्थिक, वन संवर्धन तथा वृक्ष सुधार जैसे क्षेत्रों में वानिकी अनुसंधान करना है।

मुझे आशा है कि वेबपेज पर दी गई सूचना दर्शकों के लिए अत्यंत उपयोगी होगी। वेबसाइट के सुधार के लिए आपके सुझावों का स्वागत है।

 

हाथ में ली गई परियोजानएं

पूरी की गई परियोजनाएं

2006-2007 2007-2008 2008-2009

जारी परियोजनाएं

-- -- 2008-2009

नई प्रारंभ की गई परियोजना

-- -- 2008-2009
बाहय सहायता प्राप्त

पूरी की गई परियोजनाएं

2006-2007 2007-2008 2008-2009

जारी परियोजनाएं

-- -- 2008-2009

नई प्रारंभ की गई परियोजना

-- -- 2008-2009

 

नाम

पद    दूरभाष-कार्यालय दूरभाष-निवास ई-मेल

डॉ. पी. सुब्रमण्यम

 

निदेशक, वा.अ.म.सं.वि.के., छिंदवाड़ा

+91-7162 - 282444, 254473, 220354

+91-7162-245038 -

dir_cfrhrd@rediffmail.com

head_cfrhrd@icfre.org accounts_cfrhrd@icfre.org

अधिक जानकारी के लिए :http://cfrhrd.icfre.org/

 

अस्वीकरण ( डिस्क्लेमर): दिखाई गई सूचना को यथासंभव सही रखने के सभी प्रयास किए गए हैं। वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना के अशुद्ध होने के कारण किसी भी व्यक्ति के किसी भी नुकसान के लिए भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद उत्तरदायी नहीं होगा। किसी भी विसंगति के पाए जाने पर head_it@icfre.org के संज्ञान में लाएं।