उद्देश्य:

1- वानिकी शिक्षा प्रदान करने वाले विश्वविद्यालयों में उच्च शैक्षणिक मानकों के लिए देश में वानिकी शिक्षा को बढ़ावा देना, समन्वय करना और सहायता करना।

2- विभिन्न घरेलू एवं विदेशी प्रशिक्षणों का संचालन एवं समन्वयन कर परिषद में कार्यरत वैज्ञानिकों, तकनीकी, कार्यकारी एवं अनुसचिवीय कर्मचारियों के लिए क्षमता निर्माण कार्यक्रम।

3- वन, वन्यजीव और पर्यावरण के क्षेत्र में नीति अनुसंधान करना और नीति निर्माताओं के लिए इनपुट प्रदान करना।

4- परिषद के तकनीकी संवर्ग के श्रेणी- III कर्मियों और वैज्ञानिकों की भर्ती और पदोन्नति।

 

गतिविधियाँ / कार्यक्रम

क. क्षमता निर्माणः

आईसीएफआरई ने प्रबंधकीय, वैज्ञानिक, कार्यकारी और तकनीकी संवर्ग के क्षमता निर्माण के लिए पांच वर्षीय मानव संसाधन विकास कार्यक्रम को अपनाया है। आईसीएफआरई के मानव संसाधन विकास कार्यक्रम के मुख्य उद्देश्य हैं:

1-प्रबंधकों और वरिष्ठ शोधकर्ताओं के प्रबंधन कौशल में सुधार करना और उन्हें वानिकी अनुसंधान में वर्तमान सोच और प्रवृत्तियों से अवगत कराना।

2-प्रशिक्षण, अनुसंधान कार्यशालाओं, संगोष्ठियों आदि के माध्यम से शोधकर्ताओं की विशेषज्ञता के क्षेत्र में उनकी मुख्य क्षमता को बढ़ाना।

3-सभी स्तरों के सहायक कर्मचारियों को व्यावसायिक कौशल, प्रयोगशाला प्रबंधन, प्रयोग, क्षेत्र जांच, प्रशासन आदि में सेवाकालीन प्रशिक्षण प्रदान करना।

पिछले तीन वित्तीय वर्षों में आयोजित प्रशिक्षणों की कुल संख्या और प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों की संख्या अनुबंध-I में दी गई है। अनुलग्नगक 1.

पिछले तीन वित्तीय वर्षों के दौरान आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रमों की सूची अनुबंध-I में दी गई है। अनुलग्नगक 2.

 

ख. वन नीति अनुसंधान केंद्र (सीएफपीआर):

शिक्षा निदेशालय को वनों, वन्यजीवों और अन्य प्राकृतिक संसाधनों के बेहतर प्रशासन के लिए नीतिगत मुद्दों पर गौर करने का आदेश दिया गया है। इस प्रयास में, वन और पर्यावरण क्षेत्र पर विशेष रूप से केंद्रित नीति अनुसंधान अध्ययन करने के लिए वर्ष 2018 में आईसीएफआरई (मुख्यालय) में वन नीति अनुसंधान केंद्र (सीएफपीआर) की स्थापना की गई थी। सीएफपीआर का मुख्य उद्देश्य वानिकी और पर्यावरण क्षेत्र में नीतिगत दृष्टिकोणों पर व्यापक और गहन शोध करने के लिए समर्पित "पॉलिसी थिंक टैंक" के रूप में कार्य करना है। CFPR का मुख्य फोकस भारत में प्राकृतिक संसाधनों के बेहतर शासन के लिए समकालीन नीतिगत मुद्दों पर अनुसंधान और नीतिगत निर्णयों और उचित हस्तक्षेप के लिए भारत सरकार को इनपुट प्रदान करना है। संबंधित विवरण अनुबंध-III में दिए गए हैं। अनुलग्नगक 3.

 

ग. वानिकी शिक्षा को बढ़ावाः

- विश्वविद्यालयों/महाविद्यालयों का प्रत्यायन: निदेशालय इन संस्थानों और वानिकी में शिक्षण, अनुसंधान, परीक्षा और अन्य शैक्षणिक गतिविधियों के उचित मानकों के रखरखाव के लिए एक तंत्र स्थापित करने के उद्देश्य से विश्वविद्यालयों को मान्यता भी देता है जो छात्रों को वानिकी क्षेत्र में सेवा करने तैयार करने और सरकारी और निजी उद्यमों दोनों में रोजगार के अवसर तलाशने के लिए मदद करेगा। आईसीएफआरई से मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों की सूची अनुबंध-IV में दी गई है। अनुलग्नगक 4.

2-विश्वविद्यालयों को सहायता अनुदान: शिक्षा निदेशालय अन्य विश्वविद्यालयों के तहत राज्य कृषि विश्वविद्यालयों / वानिकी कॉलेजों जो स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर पर वानिकी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए आईसीएफआरई से मान्यता प्राप्त हैं को अनुदान सहायता प्रदान करता है।

    वानिकी में पाठ्यक्रम के प्रत्यायन के लिए दिशानिर्देश (स्नातक / स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के तहत)

 

घ. चेयर ऑफ एक्सीलेंस:

वानिकी के क्षेत्र में देश में अनुसंधान और शिक्षा में गुणात्मक वृद्धि की सुविधा के लिए प्रतिष्ठित व्यक्तियों और शोधकर्ताओं को आकर्षित करने के लिए, आईसीएफआरई में चेयर ऑफ एक्सीलेंस (सीओई) स्थापित करने का निर्णय लिया गया है। 16 दिसंबर, 2019 को हुई अपनी 57वीं बैठक में बोर्ड ऑफ गवर्नर्स ने आईसीएफआरई (मुख्यालय) और इसके संस्थानों में निम्नलिखित चेयर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना को मंजूरी दी है।

क्र.सं.

चेयर ऑफ एक्सीलेंस

आईसीएफआरई (मुख्यालय)/संस्थान/मंडल

स्थिति

1.

वन उत्पाद

IWST, बेंगलुरु

स्थापित

2.

वन उत्पादकता और आजीविका

आईएफपी, रांची

प्रगति पर है

3.

वन प्रबंधन में तकनीकी प्रगति

डीडीजी (विस्तार), आईसीएफआरई देहरादून

प्रगति पर है

4.

वन आनुवंशिकी प्रबंधन संसाधन नेटवर्क

एफआरआई, देहरादून

प्रगति पर है

IWST, बेंगलुरु में "वन उत्पाद" पर चेयर ऑफ एक्सीलेंस स्थापित की गई है और अन्य तीन चेयर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना प्रक्रियाधीन है।

 

ड. आईसीएफआरई पुरस्कार:

परिषद ने वानिकी में उत्कृष्टता के लिए कुछ पुरस्कार स्थापित किए हैं। ये पुरस्कार वानिकी कर्मियों को वानिकी अनुसंधान, शिक्षा, विस्तार आदि में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए दिए जाते हैं। पिछले तीन कैलेंडर वर्षों के पुरस्कार विजेताओं का विवरण अनुबंध-V में दिया गया है। अनुलग्नगक 5.

च. वैज्ञानिकों की भर्ती और पदोन्नति और तकनीकी संवर्ग की श्रेणी- III:

परिषद में कार्यरत वैज्ञानिकों और तकनीकी कार्मिकों (श्रेणी- III) की भर्ती और पदोन्नति से संबंधित सभी मुद्दों की देखभाल शिक्षा निदेशालय द्वारा की जाती है। पिछले तीन वर्षों में भर्ती और प्रोन्नति की संख्या के बारे में विवरण अनुबंध-VI में दिया गया है। अनुलग्नगक 6.

 

नई पहलें/उपलब्धिया

1- वर्ष 2018-2023 के लिए वैज्ञानिक/प्रबंधकीय संवर्ग/अनुसंधान सहायक स्टाफ/लिपिकीय कर्मचारियों की क्षमता निर्माण के लिए मानव संसाधन विकास योजना तैयार की गयी।

2- परिषद (मुख्यालय) और उसके संस्थानों के साथ-साथ केंद्रों में कार्यरत वैज्ञानिकों का बायोडाटा तैयार किया गया।

3- आईसीएफआरई से मान्यता प्राप्त वानिकी विश्वविद्यालयों/कॉलेजों को अनुसंधान भागीदारों के रूप में शामिल करने के लिए वित्त पोषण के लिए "संसाधन सर्वेक्षण, मूल्य संवर्धन और व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण एनटीएफपी के बाजार लिंकेज के माध्यम से वन आश्रित समुदायों की आजीविका सुधार" नामक एक परियोजना प्रस्तुत की।

 

People

श्रीमती कंचन देवी, भा.व.से
उपमहानिदेशक (शिक्षा)
भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्
फोन: +91-135-2758571, 2224832 (का.),
फैक्स: +91-135-2758571
ई-मेल: ddg_edu@icfre.org

श्री दीपक मिश्रा , भा.व.से.
सहायक महानिदेशक  (शिक्षा एवं भर्ती बोर्ड)
भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्
फोन: +91-135- 2224850 (O)
फैक्स: +91-135-2750297
फैक्स:  adg_edu@icfre.org

श्री सुनील डब्ल्यू. भोंडगे
प्रमुख तकनीकी अधिकारी
शिक्षा निदेशालय
भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्

फोन:  +91 135 2224865

ई-मेल: bhondgesw@icfre.org

श्री अरविंद जौहरी
अवर सचिव
भर्ती बोर्ड
भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्

फोन:  +91 135 2224806

ई-मेल: joharia@icfre.org

 

संपर्क

श्री दीपक मिश्रा , भा.व.से.

सहायक महानिदेशक (शिक्षा एवं भर्ती बोर्ड)
भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्
न्यू फॉरेस्ट, देहरादून, उत्तराखंड
भारत
पिन कोड : 248006

फोन: +91-135-2758348, 2224850 (O)

फैक्स : +91-135-2750693
ई-मेल: adg_edu@icfre.org