मुख्य पृष्ठ  |  संबंधित लिंक  |  सूचना का अधिकार  |  सामान्यतः पूछे जाने वाले प्रश्न  |  सम्पर्क  |  English Site
भा.वा.अ.शि.प. वेबमेल  |  नागरिक चार्टर  |  साइट खोज
 

FRI

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् (भा.वा.अ.शि.प.) का पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा वानिकी अनुसंधान को प्रतिपादित, सुनियोजित, निर्देशित तथा प्रबंधन करने; राज्यों तथा अन्य एजेंसियों को विकसित तकनीकों को हस्तांतरित करने; तथा वानिकी शिक्षा प्रदान करने के लिए दिसम्बर 1986 में गठन किया गया।

Mission

वनों से संबंधित मुद्दों के निपटान हेतु ज्ञान, तकनीकी और समाधानों को उत्पन्न करना, संरक्षित करना, बांटना और प्रसार करना और अनुसंधान, शिक्षा और विस्तार के द्वारा धारणीय आधार पर वन और पर्यावरण तथा लोगों के मध्य अंतक्रिया से उत्पन्न अंतर्संबंधों को बढ़ावा देना।

Objective

वानिकी अनुसंधान और शिक्षा एवं इनके अनुप्रयोग के लिए उद्योग, सहायता और प्रोत्साहन तथा समन्वयन करने के लिए -
1. वानिकी तथा अन्य संबद्ध विज्ञानों के लिए राष्ट्रीय पुस्तकालय एवं सूचना केंद्र को विकसित करना और उसका रखरखाव करना
2. वनों और वन्य प्राणियों से संबंधित सामान्य सूचना और अनुसंधान के लिए एक वितरण केंद्र के रूप में कार्य करना
3. वानिकी विस्तार कार्यक्रमों को विकसित करना तथा उन्हें जन-संचार, श्रव्य-दृश्य माध्यमों और विस्तार मशीनरी द्वारा प्रसारित करना
4. वानिकी अनुसंधान, शिक्षा और संबद्ध विज्ञानों के क्षेत्र में परामर्शी सेवाएं प्रदान करना
5. उपर्युक्त उद्देश्यों की पूर्ति के लिए अन्य सभी आवश्यक कार्य करना

Contact


डॉ. एस.एस. गर्ब्याल,भा.व.से.
महानिदेशक,
भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्
पो.ओ. न्यू फोरेस्ट, देहरादून
(उत्तराखण्ड)- भारत
पिन कोड- 248006
दूरभाष- 2224333, 2759382



Directorates

प्रशासन निदेशालयः भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् मुख्यालय में सामान्य प्रशासन प्रबंधन के अतिरिक्त प्रशासन निदेशालय भा.वा.अ.शि.प. तथा वन अनुसंधान संस्थान की सूचना प्रौद्योगिकी आवश्यकताओं को पूरा करता है। निदेशालय पेंशन प्रकोष्ठ, प्रापण प्रकोष्ठ, बजट अनुभाग तथा आहरण एवं संवितरण कार्यालय के कार्यें को भी देखता है।

अनुसंधान निदेशालयः अनुसंधान निदेशालय का अनुसंधान योजना प्रभाग नई अनुसंधान परियोजना प्रस्तावों की योजना, प्रक्रिया तथा निष्पादन का कार्य देखता है तथा भा.वा.अ.शि.प. के सभी संस्थानों की जारी अनुसंधान परियोजनाओं की समीक्षा करता है।

निदेशक (अनुसंधान): परियोजना संविन्यास प्रभाग अभिज्ञात थ्रस्ट क्षेत्रों में अनुसंधान परियोजना के संविन्यास के लिए समर्थ दाता एजेंसियों तथा भा.वा.अ.शि.प. के बीच नोडल एजेंसी सम्पर्क के रूप में कार्य करता है।

विस्तार निदेशालयः मीडिया एवं प्रकाशन प्रभाग भा.वा.अ.शि.प. के संस्थानों द्वारा वानिकी सेक्टर में अनुसंधान उपलब्धियों के प्रचार के लिए अंगीकृत किए गए विस्तार गतिविधियों तथा रणनीतियों का विकास तथा प्रबंधन करता है।

शिक्षा निदेशालयः शिक्षा निदेशालय बुनियादी सुविधाओं को मजबूत करने तथा देश में वानिकी शिक्षा को सुधारने के लिए अनुसंधान सुविधाओं तथा अध्यापन को बढ़ावा देने के लिए विश्वविद्यालयों को अनुदान के रूप में आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाता है।

जैवविविधता एवं जलवायु परिवर्तन प्रभागः भा.वा.अ.शि.प. ने जैवविविधता एवं जलवायु परिवर्तन प्रभाग की स्थापना की है। राष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन तथा वानिकी से संबंधित जैवविविधता मामलों पर चर्चा करना तथा देश में अलग-अलग पारितंत्रों के लिए जैवविविधता सूचना संचित करना प्रभाग के अधिदेशों में से एक है।

Institutes

राष्ट्र की वानिकी अनुसंधान आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए देश के विभिन्न जैव-भौगोलिक क्षेत्रों में स्थित परिषद् के नौ अनुसंधान संस्थान तथा चार उन्नत केंद्र हैं। संस्थान निम्नलिखित हैः -

वन अनुसन्धान संस्थान (व.अ.सं.), देहरादून
शुष्क वन अनुसन्धान संस्थान (शु.व.अ.सं.), जोधपुर
उष्णकटिबंधीय वन अनुसन्धान संस्थान (उ.व.अ.सं.), जबलपुर
वन आनुवंशिकी एवं वृक्ष प्रजनन संस्थान (व.आ.वृ.प्र.सं.), कोयम्बटूर
हिमालयन वन अनुसन्धान संस्थान (हि.व.अ.सं.), शिमला
वर्षा वन अनुसन्धान संस्थान(व.व.अ.सं.), जोरहाट
वन उत्पादकता संस्थान (व.उ.सं.), रांची
काष्ठ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान (का.वि.प्रौ.सं.), बंगलौर
वन जैव विविधता संस्थान (व.ज.सं.), हैदराबाद
वानिकी अनुसंधान एवं मानव संसाधन विकास केन्द्र (वा.अ.मा.सं.वि.कें.), छिंदवाड
सामाजिक वानिकी एवं पारि-पुनर्स्थापन केन्द्र (सा.वा.पा.पु.कें.), इलाहाबाद
बांस और बेंत के लिए उन्नत अनुसन्धान केन्द्र (बां.बें.उ.अ.कें.), आइजॉल
वन आजीविका और विस्तार के लिए केंद्र (व.अ.वि.कें.), अगरतला

अस्वीकरण ( डिस्क्लेमर): दिखाई गई सूचना को यथासंभव सही रखने के सभी प्रयास किए गए हैं। वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना के अशुद्ध होने के कारण किसी भी व्यक्ति के किसी भी नुकसान के लिए भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद उत्तरदायी नहीं होगा। किसी भी विसंगति के पाए जाने पर head_it@icfre.org के संज्ञान में लाएं।



महानिदेशक का संदेश

 भा.वा.अ.शि.प. परिवार की ओर से शुभकामनाएं तथा हमारी वेबसाइट में आपका स्वागत है। हम इस संस्था के गौरवपूर्ण इतिहास से सम्बनिधत सारभूत सूचना उपलब्ध करवायेगे। अधिक..

 
संवादात्मक पोर्टल : पणधारियों के साथ इंटरफेस
 
पुस्तक डाउनलोड करे : फारेस्ट सेक्टर रिपोर्ट इंडिया 2010 :   (अंग्रेजी)  (हिन्दी)
 
अ.व.उ. बाजार निगरानी
 
फारेस्ट्री इन द सर्विस आफ नेशन
 
"फारेस्ट्री स्टेस्टि्क इंडिया 2011" पुस्तक  
 
स्लेम-टी.एफ.ओ.
 

 सभी अधिकार सुरक्षित, भा.वा.अ.शि.प., देहरादून      आईएसओ 9001:2000 प्रमाणित