परिचय
विस्तार निदेशालय नियत लक्ष्य समूहों, जैसे कृषकों, राज्य वन विभागों, उद्योगों, शिल्पकारों आदि के लिए प्रौद्योगिकी पैकेजों सहित उपयुक्त प्रतिमान हस्तांतरित करने के लिए प्रयासरत है। यह भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् के संस्थानों और केन्द्रों की विभिन्न विस्तार गतिविधियों का समन्वय करता है तथा व्यापक विस्तार रणनीतियों का विकास करता है। यह पर्यावरण प्रबंधन तथा अन्य संबंधित क्षेत्रों में भी परामर्श सेवाएं प्रदान करता है।

निदेशालय केपासविभिन्न प्रकाशनों जैसे वार्षिक प्रतिवेदनों, वन विज्ञान केन्द्रों (वी.वी.के.), कृषि विज्ञान केन्द्रों (के.वी.के.) और प्रदर्शन ग्रामों (डी.वी.) के नेटवर्क, वन विज्ञान केंन्द्रों की कृषि विज्ञान केन्द्रों के साथ नेटवर्किंग, वृक्ष उत्पादक मेलों के आयोजन तथा प्रौद्योगिकी प्रदर्शन केन्द्रों के विकास से वानिकी विस्तार हेतु अधिदेश प्राप्त है। निदेशालय के पास निम्न प्रभाग हैं

1.     मीडिया एवं विस्तार प्रभाग

1.     प्रकाशन

क)        भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् में वार्षिक प्रतिवेदन, मासिक ई-वानिकी समाचार, तरूचिंतन तथा अन्य संबंधित साहित्य

      

2.         विस्तार क्रियाकलापों का अनुश्रवण एवं मूल्यांकन

               

»           भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् में राजभाषा हिन्दी का कार्यान्वयन

   

 

II.     पर्यावरण प्रबंधन प्रभाग

पर्यावरण प्रबंधन प्रभाग पूर्व में पर्यावरण प्रभाव आकलन प्रभाग, जिसकी स्थापना वर्ष 2002 में हुई थी तथा वर्ष 2011 मंे इसका पर्यावरण प्रबंधन प्रभाग के रूप में पुनः नामकरण किया गया। प्रभाग का अधिदेश निम्न प्रदान करता है (1) पर्यावरण प्रबंधन के क्षेत्र में परामर्श सेवाएं सहित पर्यावरण प्रभाव आंकलन अध्ययन, वहन क्षमता मूल्यांकन करना, पर्यावरणीय मंजूरीयों पर हरित परिस्थतियों का अनुश्रवण, बंद खदानों हेतु पुनरूद्धार योजना, जैव-विविधता आकलन तथा सामाजिक-आर्थिक अध्ययन। (2) पर्यावरणीय प्रभाव मूल्यांकन में क्षमता निर्माण तथा प्रशिक्षण, कार्यशालाओं और संगोष्ठियों के माध्यम से प्रबंधन तथा (3) पर्यावरणीय नीति विश्लेषण तथा मुख्य रूप से पर्यावरण के हरित पहलुओं के संबंध में इसका समर्थन। स्थापना के बाद से इस प्रभाग ने अनेकों परामर्श परियोजनाओं का दायित्व लिया है (चित्र 1 और 2)।

विवरण देखने के लिए लिंक पर क्लिक करें।

Click on link to view detail

1.            प्रभाग द्वारा प्रतिपादित परामर्श सेवाओं के क्षेत्र

शुरूआत में इस प्रभाग द्वारा प्रदान की गई परामर्श सेवाएं पर्यावरण प्रभाव आकलन तथा जैव विविधता से संबंधित अध्ययनों पर केवल कुछ उपभोक्ताओं तक ही सीमित थी। यद्यपि, समय के साथ तथा बढ़ते अनुभवों के साथ प्रभाग ने विभिन्न क्षेत्रों में विभिन्न उपभोक्ताओं के लिए नीचे दी गयी सारणी अनुसार मुख्य परामर्श कार्य किए हैः

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् द्वारा प्रतिपादित सेवाओं के उपभोक्ता

2.  पर्यावरण प्रबंधन प्रभाग, भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद् द्वारा किए गए प्रमुख महत्व की परामर्श परियोजनाएंः

 

व्यक्ति

श्री विपिन चौधरी

उप महानिदेशक (विस्तार)

भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
दूरभाषः +91-135-2750693, - (आ);

फैक्स : +91-135-2750693
ई मेल : ddg_extn@icfre.org

 

 

श्री सुधीर कुमार

वैज्ञानिक-‘जी’ तथा सहायक महानिदेशक (पर्यावरण प्रबंधन)
भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
दूरभाषः +91-135-2744586
ई मेल: sudhir@icfre.org

 

डा. शामिला कालिया

सहायक महानिदेशक (मीडिया एवं विस्तार)

भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद

दूरभाषः +91-135-2755221,-(आवास)

फैक्सः +91-135-2750693

ई मेल: shamila@icfre.org

 

 

डा. वी. जीवा

वैज्ञानिक 'एफ'

भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
फोन: +91-135-2224888
ई मेल: vjeeva@icfre.org

 

 

श्री ए. एन. सिंह

वैज्ञानिक 'एफ'
भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
फोन: +91- 135- 2224816

ई मेल:  singhan@icfre.org

 

 

डा. विश्वजीत कुमार

वैज्ञानिक  डी'

भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
फोन: +91-135-2750296, 2224803

ई मेल:  vishavjit@icfre.org

 

 

 

 

 

 

श्री रमाकान्त मिश्र

सहायक मुख्य तकनीकी अधिकारी

भारतीय वानिकी अनुसंधान एवं शिक्षा परिषद्

दूरभाषः +91-135-2224808

-मेलः

 

 

श्री चंद्र शर्मा
अनुसंधानअधिकारी

भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
फोन: +91- 135- 2224802

ई-मेलः

 

 

श्री विपिन चौधरी

उप महानिदेशक (विस्तार)
भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद
पो. ओ. न्यू फारेस्ट, देहरादून
(उत्तराखण्ड) - भारत
पिन कोड : 248006
फोन : +91-135-2750693
फैक्स    : +91-135-2750693
ई मेल : ddg_extn@icfre.org